Porcupyn's Blog

June 20, 2014

Songs of the 1970s – my favourites – 9

Filed under: Music — Porcupyn @ 11:59 pm

aa.Nkho.n me.n kaajal hai – Lyrics from giitaayan

आँखों में काजल है
काजल में मेरा दिल है
ओ हो हो हो

आँखों में काजल है
काजल में मेरा दिल है
आँखों में काजल है
काजल में दिल है
चलो दिल में बिठाके तुम्हें
तुमसे ही प्यार किया जाये
हो चलो दिल में बिठाके तुम्हें
तुमसे ही प्यार किया जाये

बालों में ख़ुशबू है
ख़ुशबू में तू ही तू है
बालों में ख़ुशबू है
ख़ुशबू में तू है
चलो बालों के तले तले
बाहों का हार सिया जाये

हो चलो दिल में बिठाके तुम्हें
तुम से ही प्यार किया जाये

तुम तो हो मेरी बहार
मेरी नज़र में खिलो
कलियों से मिलके सनम
फिर आके हमसे मिलो
ऐसे तेरे नैना लड़े
जैसे कोई नशा चढ़े
हाय बिंदिया हँसे चली जाये
तेरी बिंदिया दर्पन है
दर्पन में साजन है
तेरी बिंदिया दर्पन है
दर्पन में सजन
चलो बिंदिया से लेके तुम्हें
दिल में उतार लिया जाये
हो चलो दिल में बिठाके तुम्हें
तुम से ही प्यार किया जाये

कैसा है अपना मिलन
कैसी मुलाक़ात है
जैसे अदा में मेरी
कोई नई बात है
बनी रहे अदा तेरी
सदा रहे वफ़ा मेरी
ऐसे ही ये जीवन बीत जाये
जीवन क्या चाहत है
चाहत क्या जीवन है
जीवन क्या चाहत है
चाहत क्या जीवन
चलो सारे जीवन का यहीं
मिलके इक़रार किया जाये
हो चलो दिल में बिठाके तुम्हें
तुमसे ही प्यार किया जाये

आँखों में काजल है
काजल में मेरा दिल है
आँखों में काजल है
काजल में दिल है
चलो दिल में बिठाके तुम्हें
तुमसे ही प्यार किया जाये
हो चलो दिल में बिठाके तुम्हें
तुमसे ही प्यार किया जाये

Advertisements

Blog at WordPress.com.