Porcupyn's Blog

June 28, 2014

Songs of the 1970s – my favourites – 17

Filed under: Music — Porcupyn @ 11:59 pm

aaj madhosh huwa jaae – lyrics from giitaayan

ल: आज मधोश हुआ जाए रे
मेरा मन मेरा मन मेरा मन
बिना ही बात मुस्कुराए रे
मेरा मन मेरा मन मेरा मन
ओ री कली सजा तू डोली
ओ री लहर पहना तू पायल
ओ री नदी दिखा तू दर्पन
ओ री किरण उड़ा तू आँचल
एक जोगन है बनी आज दुल्हन हो ओ
आओ उड़ जाएं कहीं बनके पवन
आज मधोश हुआ जाए रे

कि: शरारत करने को ललचाए रे
मेरा मन मेरा मन मेरा मन
ऐ, यहाँ हमें ज़माना देखे
ल: तो
कि: आओ चलो कहीं छुप जाएं
ल: अच्छा
कि: यहाँ हमें ज़माना देखे
आओ चलो कहीं छुप जाएं
कैसे कहो प्यासे रह जाएं
तू मेरी मैं हूँ तेरा तेरी क़सम हो ओ

ल: मैं तेरी तू मेरा मेरी क़सम हो ओ
आज मधोश हुआ जाए रे
मेरा मन मेरा मन मेरा मन

ल: रोम रोम बहे सुर धारा
अँग अँग बजे शहनाई
जीवन सारा मिला एक पल में
जाने कैसी घड़ी ये आई
छू लिया आज मैंने सारा गगन हो ओ
नाचे मन आज मोरा झूम छनन छनन ओ ओ
आज मधोश हुआ जाए रे
मेरा मन मेरा मन मेरा मन

कि: शरारत करने को ललचाए रे
ल: बिना ही बात मुस्कुराए रे
कि: मेरा मन
ल: मेरा मन

Leave a Comment »

No comments yet.

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: