Porcupyn's Blog

July 11, 2014

Songs of the 1970s – my favourites – 30

Filed under: Music — Porcupyn @ 11:59 pm

aap yoon faaslon se – lyrics from giitaayan

आप यूँ फ़ासलों से गुज़रते रहे
दिल से कदमों की आवाज़ आती रही
आहटों से अंधेरे चमकते रहे
रात आती रही रात जाती रही

हो, गुनगुनाती रहीं मेरी तनहाइयाँ
दूर बजती रहीं कितनी शहनाइयाँ
ज़िंदगी ज़िंदगी को बुलाती रही
आप यूँ फ़ासलों से गुज़रते रहे
दिल से कदमों की आवाज़ आती रही
आप यूँ…

कतरा कतरा पिघलता रहा आस्माँ -2
रूह की वादियों में न जाने कहाँ
इक नदी… इक नदी दिलरुबा गीत गाती रही
आप यूँ फ़ासलों से गुज़रते रहे
दिल से कदमों की आवाज़ आती रही
आप यूँ…

आप की गर्म बाहों में खो जाएंगे
आप की नर्म ज़ानों पे सो जाएंगे, सो जाएंगे
मुद्दतों रात नींदें चुराती रही
आप यूँ फ़ासलों से गुज़रते रहे
दिल से कदमों की आवाज़ आती रही
आप यूँ…

Advertisements

Blog at WordPress.com.