Porcupyn's Blog

August 17, 2014

Songs of the 1970s – my favourites – 69

Filed under: Music — Porcupyn @ 11:59 pm

baagon men kaise ye – lyrics from giitaayan

बाग़ों में कैसे ये फूल खिलते हैं
खिलते हैं भँवरों से जब फूल मिलते हैं
ओऽ बाग़ों में …

ओऽ अ ःआऽ
मौसम बहारों के लगते हैं क्यों प्यारे
हँसते हैं रोते हैं कलियों के संग सारे
कलियों के खिलने से दिल भी खिलते हैं
बाग़ों में …

अच्छा अब तुम बोलो ऐसा कब होता है
बड़े वो हो मत छेड़ो ऐसा तब होता है
जब तेरे नयनों से मेरे नैन मिलते हैं
बाग़ों में …

Leave a Comment »

No comments yet.

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: