Porcupyn's Blog

August 20, 2014

Songs of the 1970s – my favourites – 72

Filed under: Music — Porcupyn @ 11:59 pm

baahon men teree, mastee ke ghere, saanson men – lyrics from giitaayan

बाहों में तेरी, मस्ती के घेरे
सांसों में तेरी, खुशबू के डेरे
मस्ती के घेरों में, खुशबू के डेरे में, हम खोए जाते हैं

male : ख़्वाबों में जिसको, तनहा जवानी
बरसों से तकती थी, तू वही है
female : छूने से जिसको, सीने में मेरी
लौ जाग सकती थी, तू वही है
male : कुछ ख़्वाब मेरे, कुछ ख़्वाब तेरे
female : यूँ मिलते जाते हैं
दिल खिलते जाते हैं, लब गुन-गुनाते हैं
बाहों में तेरी …

male : बिखरा के ज़ुल्फ़ें, झुक जाओ मुझपे
मिलने दो साया, तपते बदन को
female : मैने हमेशा, तेरी अमानत
समझा है मेरे, जानाज़ तन को
male : तू साथ मेरे, मैं साथ तेरे
female : रूहों के रूहों से
जिस्मों के जिस्मों से, सदियों के नाते हैं
बाहों में तेरी …

Leave a Comment »

No comments yet.

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: